भ्रष्टाचार मामले में पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जरदारी बरी

0
119

इस्लामाबाद – पाकिस्तान की एक अदालत ने देश के पूर्व राष्ट्रपति असिफ अली जरदारी को भ्रष्टाचार के एक पुराने मामले में बरी कर दिया है। उन पर आय से अधिक संपत्ति रखने का आरोप था। यह जानकारी रविवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

जरदारी के वकील फारुक एच नाइक ने अदालत से अपने मुवक्किल जरदारी को बरी किए जाने का अनुरोध किया था और नेशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) अदालत के जस्टिस खालिद महमूद रांझा ने उनके इस अनुरोध को स्वीकार कर लिया।

उन्होंने कहा कि 62 वर्षीय जरदारी के खिलाफ पेश अधिकतर दस्तावेज फोटोकॉपी में थे, जिन्हें स्वीकार नहीं किया जा सकता है, क्योंकि अधिकतर गवाहों ने बताया कि उन्हें जानकारी याद नहीं है। यह एक पुराना मामला है।आखिरकार जज ने मामला रद्द करते हुए पूर्व राष्ट्रपति को बरी कर दिया।

मामला वर्ष 1999 में शुरू हुआ था, लेकिन वर्ष 2007 में उनकी दिवंगत पत्नी बेनजीर भुट्टो तथा पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ के साथ हुए एक राजनीतिक समझौते के बाद जरदारी के खिलाफ ऐसे पांच अन्य मामलों सहित इस मामले को रद्द कर दिया गया था। बहरहाल पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2009 में इस समझौते और उनकी माफी को खारिज कर दिया और इस संबंध में जांच के आदेश दिए। फिर भी, अदालत उनके खिलाफ मामला नहीं शुरू कर पाई, क्योंकि बतौर राष्ट्रपति उन्हें मुकदमे से छूट हासिल थी। यह मामला एक बार फिर वर्ष 2015 में शुरू हुआ और जरदारी बरी हो गए।